एपिसोड 1: तबला का परिचय

एपिसोड 1: तबला का परिचय ! तबला, दुनिया के प्रमुख वाद्ययंत्रों में से एक है। दुनिया भर में इसकी लोकप्रियता के बावजूद, यह मूल रूप से दक्षिण पूर्व एशिया का मुख्य ताल/लय वाद्य है। इस वाद्ययंत्र के वादन में निरंतर क्रांति के अलावा तबले की विभिन्न प्रतिभाओं ने पूरी दुनिया में इसके प्रति एक विशेष स्वीकृति और आकर्षण पैदा की है। तबले के इतिहास के बारे में बहुत चर्चा हुई है। हालांकि कोई लिखित दस्तावेज़ या तस्वीरें नहीं मिली, 18 वीं शताब्दी के सूफी कवि और संगीतकार अमीर खुसरू को जनता के द्वारा, तबले के जनक होने का श्रेय दिया गया है। दूसरी ओर, यह भी विचार है कि तबले का जन्म शास्त्रीय संगीत के मुख्य वाद्य पखावज को समय की मांग में दो भागों में विभाजित करके हुआ था।

तबला का परिचय - Tabla, Percussion instrument, तबला, ताल वाद्य यंत्र, তবলা, তাল বাদ্য
Tabla, Percussion instrument, तबला, ताल वाद्य यंत्र, তবলা, তাল বাদ্য

[ एपिसोड 1: तबला का परिचय ]

तबला एक ऐसा वाद्ययंत्र है, जिसे दो भागों में बांटा गया है। जिसका एक भाग तीव्र और मादुर ध्वनि उत्पन्न करता है, और दूसरा भाग भारी और गंभीर ध्वनि उत्पन्न करता है। एक लकड़ी का बना होता है, दूसरा तांबे या लोहे का, लेकिन पहले बायाँ भी मिट्टी का बनता था। लकड़ी के तबले को आमतौर पर दायाँ या दाहिना कहा जाता है क्योंकि यह दाहिने हाथ से बजाया जाता है, जबकि तुलनात्मक रूप से बड़े धातु के यंत्र को बायाँ या दुग्गी कहा जाता है। हालांकि दोनों बायाँ और तबला को ही धुनों में बजाया जाता है, लेकिन सिर्फ दाहिने को ही एक निश्चित स्केल के “सा” सुर पर साधा जाता है। बायाँ और तबला दोनों ही अंदर से खाली होते हैं।

Tabla, Percussion instrument, तबला, ताल वाद्य यंत्र, তবলা, তাল বাদ্য
Tabla, Percussion instrument, तबला, ताल वाद्य यंत्र, তবলা, তাল বাদ্য

ऊपर से देखने पर तबले के खाल के बीच में एक उच्च काले रंग की परत देखी जा सकती है। इसे संसाधित बकरी की त्वचा पर चावल या गेहूं और लोहे के पाउडर के विशेष मिश्रण से बनाया जाता है। काले आकार की इस विशेष झिल्ली को बीच, स्याही और सियाही के नाम से जाना जाता है। तबले की आवाज़ की गंभीरता को बनाए रखने के लिए ही ये स्याही काम में आता है। स्याही के बगल में हल्की भूरी त्वचा को किनारा, किनार या कानी कहा जाता है। तबले के ऊपर की ज़मीन पर स्याही का सुर और किनारे की आवाज़ अलग होती है। अलग-अलग उंगलियों के मुद्राओं के इस्तेमाल से ही ये वाद्ययंत्र बजता है और विभिन्न ध्वनियों का उपयोग करके संगीत प्रदर्शित किया जाता है।

Tabla, Percussion instrument, तबला, ताल वाद्य यंत्र, তবলা, তাল বাদ্য
Tabla, Percussion instrument, तबला, ताल वाद्य यंत्र, তবলা, তাল বাদ্য

तबले के मुख्य “मैदान” के ठीक बाहर के हिस्से को “पगड़ी” या “गजरा” भी कहा जाता है। गजरे का मुख्य कार्य तबला के छावनी के तनाव को बनाए रखना है। इसके ही ठीक निचले हिस्से पर हमे रस्सी जैसी वस्तु देखने को मिलती है, जिसे बद्दी कहते है। मूल रूप से गाय या उठ के चमड़े से बनी इस छत्र का मुख्य कार्य ऊपर की हर चीज़ की टेंशन/तनाव को बनाए रखना है। इस बद्दी के अंदर से ही लकड़ी से बने गट्टे को डाला जाता है, हथौड़ी से ठोंक कर स्वर ऊँचा या नीचा नियत किया जाता है। एक विशेष गोल तकिये के ऊपर तबले का एक जोड़ा रखा जाता है, जिसे बीरा या गद्दी कहते है। गद्दी आमतौर पर भूसे से बनाया जाता है। एक मोटे कपड़े के स्तर के अंदर इन भूसे को भरा जाता है और निज निज रुचि अनुसार रंग बिरंगे कपड़े से लपेटकर सजाया जाता है।

Tabla, Percussion instrument, तबला, ताल वाद्य यंत्र, তবলা, তাল বাদ্য
Tabla, Percussion instrument, तबला, ताल वाद्य यंत्र, তবলা, তাল বাদ্য

तबला बजाने के लिए दो और महत्वपूर्ण चीज़ों की आवश्यकता है, एक हथौड़ा और एक पाउडर रखने का पात्र/केस। तबले की धुन को हथौड़े से साधे, और तबले के मैदान को पाउडर से निर्बाध बनाए ताकि बजाते समय हाथ अटक न जाए। तबला की एक जोड़ी खरीदने का एक बड़ा फायदा यह है कि इसे पूरी दुनिया में देखा जा सकता है। किसी भी देश के वाद्ययंत्र की दुकान पर एक जोड़ी मिलने की संभावना है, हालांकि इसकी गुणवत्ता को लेकर कुछ अनिश्चितता हो सकती है। छात्रों के मामले में, शुरुआती दिनों में बहुत ज़्यादा अच्छे तबला जोड़े की कोई आवश्यकता तो नहीं है, लेकिन अच्छी गुणवत्ता वाले वाद्ययंत्र के कुछ अतिरिक्त फायदे अवश्य हैं। बायाँ वजन पर आधारित है और दाहिना का मूल विषय स्केल और व्यास पर निर्भर करता है। एक अच्छे बायाँ में 3.5 किलो वज़न सामान्य है। दाहिना या तबला के मामले में, अगर कोई घर में संगीत से जुड़ा है तो, स्केल का मिलान किया जा सकता है। अन्यथा, “डी” स्केल का तबला खरीदने की सलाह दी जा सकती है, क्योंकि तबले की त्वचा का तनाव मौसम के बदलाव के साथ कम होती जाती है, परंतु फिर भी तबला बजाने के उपयोगी रहता है।

Tabla, Percussion instrument, तबला, ताल वाद्य यंत्र, তবলা, তাল বাদ্য
Tabla, Percussion instrument, तबला, ताल वाद्य यंत्र, তবলা, তাল বাদ্য

तबले का गुण, सुर में बंध जाने की योग्यता, माधुर्य बनाए रखने की क्षमता लकड़ी और चमड़े की गुणवत्ता से निर्धारित होती है। तबला आमतौर पर अच्छी गुणवत्ता वाले नीम, शीशम,महोगनी या बबला लकड़ी से बनाया जाता है। दक्षिण-पूर्व एशिया के हजारों तबला “ब्रैंड” ज्यादातर भारत में आधारित हैं। तबला बनाना एक कठिन कला है। एक तबला बनाने में लगभग 7 दिन का समय लगता है। “कासिम खान नियाज़ी” जो भारत के एक विख्यात तबला कारीगर है, उन्हें उनके इस विशेष कला के लिए संगीत नाटक अकादमी द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है। कासिम खान नियाज़ी की वेबसाइट पर जाते हैं, आपको आपकी मन पसंद तबला जोड़े मिल जायेंगे। उनका तबला, दुनिया के किसी भी क्षेत्र में रहकर इकट्ठा किया जा सकता है। ब्रैंड वैल्यू के चलते कासिम खान के तबले की कीमत स्वाभाविक रूप से काफ़ी ज़्यादा है। कलकत्ता के आज़ाद गुलाम, महाराजा तबला और कई अन्य कारीगरों के तबले भी दुनिया भर में मशहूर है। उस्ताद ज़ाकिर हुसैन, पंडित स्वपन चौधरी, पंडित अनिंद्य चटर्जी समेत इस जगत के तमाम कलाकारों का तबला इन्हीं कारीगरों से आता है। एक जोड़ी तबले की कीमत पांच हज़ार से पच्चीस हज़ार तक पहुंच सकती हैं। तबला गुरुकुल के पहले एपिसोड में रतन कुमार दास इन सभी मुद्दों पर चर्चा करते हैं। आप सभी का स्वागत है इस विशेष कड़ी में। तबला शिक्षा की यात्रा मंगलमय हो! अधिक पढ़ें: एपिसोड 2: तबला पकड़ने की पद्धति

Leave a Comment

error: Content is protected !!